Pages

Wednesday, March 04, 2015

'भटकन'

मुझे ये सोच सरासर गलत लगती है कि लड़कियाँ, लड़कों के जीवन में भटकाव पैदा करती हैं। और इस लड़कियों का चक्कर पद से तो मुझे सख्त नफ़रत है। ( वैसे क्रिकेटर्स का अपनी पत्नी या गर्लफ़्रैण्ड को साथ ले जाने पर रोक के पीछे आखिर क्या तर्क है, मैं समझी नहीं।) 



वैसे आसान है ना, नाकामयाब तो अपनी कमज़ोर इच्छाशक्ति और निकम्मेपन के कारण होना और दोष किसी और के सिर मढ़ देना। 

मुझे तो इसका उल्टा सत्य लगता है, किसी लड़के के जीवन में आते ही लड़कियाँ अपना करियर, स्वास्थ्य का ख्याल, अपने विचारों, इच्छाओं का सम्मान करना, अपने परिवार (पीहर पक्ष) का खयाल करना (लायक बनकर भावनात्मक व आर्थिक सहयोग देना), अपने सारे सपने, सबकुछ भूला देती हैं या भूल जाने को मज़बूर हो जाती हैं। कुछ लड़कियाँ किसी आदमी के ज़िन्दगी में होने के विचार से ही इतनी निश्चिंत और सुरक्षित महसूस करती हैं कि अपने लिये सोचना व काम करना ही बंद कर देती हैं और ऐसे अपना जीवन उसके हाथों में सौंप देती हैं कि दुर्भाग्यवश यदि वह आदमी (जो उनकी पूरी दुनिया है, जो उनके सारे फ़ैसले लेता है, उन्हें बाहर की ज़ालिम दुनिया से सुरक्षित रखता है और उनकी ज़रूरतें पूरी करता है) उन्हें किसी भी कारणवश ‘छोड़’ दे तो बिल्कुल असहाय हो जाएंगी। क्योंकि वे भावनात्मक रूप से उस पर निर्भर थीं, क्योंकि उन्होंने उसके भरोसे अपनी पढ़ाई अधूरी छोड़ दी थी, अपने दोस्तों से सम्पर्क तोड़ दिया था और उनके पास काम करने और अकेले गुज़ारा करने का कोई अनुभव नहीं। ये स्थिति और भी बुरी होती है अगर इन लड़कियों/ महिलाओं के पास एक या अधिक बच्चे भी हों जिनके होने के निर्णय में भले उनका हाथ हो या ना हो, पालने और संस्कार देने की जिम्मेदारी केवल उन्हीं की होती है । 


इससे अलग कुछ तभी संभव होता है जब लड़का समझदार हो और लड़की जागरूक व रिबेल। इस सबके बाद भी लड़कियों को अक्सर क्रेडिट कम और तोहमत ही ज़्यादा मिलती है। 
मेरे विचार से सच्चा प्रेम तो केवल उठना ही सिखाता है, गिरते तो लोग अपनी कमज़ोरियों और बेवकूफ़ियों की वजह से है। (शायद संत वैलेंटाइन का मूल संदेश भी यही था।) 
इसलिये ना तो लड़कियों का चक्कर बेकार है ना लड़कों का लफ़ड़ा… सिर्फ़ आपकी सोच बेकार है अगर वो आपका ध्यान आपके लक्ष्य पर केंद्रित नहीं रहने देती। 
जरूरी है किसी के साथ अपनी ज़िंदगी बाँटने को तैयार होने से पहले आपकी अपनी कोई ज़िंदगी हो, जो आपने अपने दम पर बनायी हो।


2 comments:

  1. सहमत आपकी बात से ... अपनी जिंदगी और उसका लक्ष्य होना भी जरूरी है हर किसी के लिए ...

    ReplyDelete
  2. अगर दृढ़ इच्छाशक्ति हो किसी को भी लड़के या लड़की के लिए वह भटकाव का कारण नहीं बनना चाहिए.बल्कि यूँ कहें होता उल्टा है.किसी को किसी के साथ होने का अनुभव और मजबूत बनाता है.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...