Pages

Friday, October 02, 2009

“अखबार में कुछ बुरा”


“अखबार में कुछ बुरा”







आज फ़िर पढ़ लिया अखबार में, उसने कुछ बुरा
हाँ, कुछ ही, क्योंकि दुनिया में तो हो रहा है और भी बुरा
पर उसे तो लगता है यही बहुत बुरा
नहीं सोच पाती वह, क्या हो सकता है इससे भी बुरा
नहीं समझ पाती वह, जिन पर गुज़रता है यह सब
क्या बीतती होगी उन पर भला
खिन्न सा हो गया मन, जाने किससे है उसे गिला

अखबार के आखिरी पन्ने पर छपे
इन छोटे मोटे हादसों को
मनुष्य को मनुष्यता से दूर करती
इन दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं को
ज़रा सी लालच, हवस, मूर्खताभरी नफ़रत
और द्वेष से जन्मे इन अपराधों को
गलती से पढ़ लेती है जब वह
मानव की आसुरी प्रवृत्तियों की पराकाष्ठाओं को

हाँ, गलती से ही तो पढ़ लेती है वह
क्योंकि नहीं चाहती उन्हें पढ़ना
बड़ा ही दर्दनाक होता है ना
सच्चाइयों से रुबरु होना
पर जानती है वह, बन्द कर लेने से आँखें
हकीकत बदल नहीं जाती
और उनका क्या जो नहीं कर सकते अनदेखा
जिन पर होती है ये ज़्यादती

बहुत खुश और महफ़ूज़ है वह
बड़ी खूबसूरत है उसकी दुनिया
खुले पंख उसके
और आंखों में आसमान नया
पर कसैला सा हो गया है मन
जब से पढ़ लिया है कुछ बुरा, उसने अखबार में
देश दुनिया की तरक्की की बातों से भरे
उस अखबार में

आज फ़िर नहीं लग रहा मन उसका
प्रगति की बातों में
नहीं लग रहा है उसका मन
प्रेम की बातों में
नहीं मिल रही शांति
सौंदर्य की बातों में

मन तो अजीब सा हो गया था
तड़प रहा था हृदय और ये चाह रहा था
कि जितना आसान है
अखबार के आखिरी पन्ने को जला देना
काश जला सकती फ़ाड़ के, इस भयानक पन्ने को
अपने देश की किस्मत की किताब से
मिटा देती खौफ़,
बेबस बुजुर्गों, सहमे बच्चों
और डरी हुई औरतों के नसीब से
नहीं लग रहा है मन उसका
पढ़ लिया है कुछ बुरा उसने,
अखबार में जब से…

तीन दिन पहले ही लिखी ये कविता आपको कैसी लगी ? जानती हूँ आप सब मु्झसे बहुत नाराज़ होंगे, पिछ्ली पोस्ट के बाद बहुत लम्बा गैप हो गया है ना !
दरअसल पिछ्ली पोस्ट के बाद तो मेरी सेहत का अलार्म बज गया था… कैसे ? अरे ये तो आप मेरे
बनाये इस स्केच को देखकर ही समझ सकते हैं… कैसा है ? वो पहले वाला भी मैंने ही बनाया है।


वो क्या है कि कुदरत को खालीपन पसन्द नहीं और मुझे बर्दाश्त नहीं… मतलब ये कि जब मैं व्यस्त नहीं होती तो अस्त व्यस्त हो जाती हूँ । और फ़िर मेरी सेह्त का अलार्म मुझे कह जाता है कि “लापरवाह लड़की ! वक़्त पर खाया कर और वक़्त पर सोया कर…!”
“अच्छा ठीक है…” मैं अपने आलसी अन्दाज़ में कह्ती हूँ और दो चार दिन में फ़िर अपनी गाड़ी चलने लगती है।

आजकल तो मैं योग करती हूँ और स्वस्थ हूँ, मस्त हूँ और व्यस्त हूँ ।
एक तो एमएससी का रिज़ल्ट आने में इतनी देर हो गयी थी… दूसरा पीएचडी के एडमिशन्स हैं कि शुरु ही नहीं हो रहे हैं। अब तक किसी तरह टाइमपास किया… ब्लोग बनाया, स्केच बनाये… 6 सितम्बर को इन्जिनियर्स सप्ताह के शुभारम्भ पर सीनियर रेलवे इन्स्टीट्यूट में “Responsibilities of youth towards country” विषय पर स्पीच दिया (पापा रेलवे में सेक्शन इन्जिनियर हैं) और 15 सितम्बर को इन्जिनियर्स सप्ताह की क्लोसिन्ग पर “पर्दे में रहने दो” सोन्ग पर डान्स किया। मज़ेदार रहा। पर कुछ भी हो… पढ़ाई के बिना ज़िन्दगी में मज़ा नहीं आता।

नवम्बर में पीएचडी के एन्ट्रेन्स एक्ज़ाम होने की सम्भावना है। आजकल इसीलिये पढ़ाई कर रही हूँ… मुझे रात में पढ़ना पसन्द है। मेरे लिये दुआ ज़रुर कीजियेगा… आप तो जानते हैं ना कि मुझे ‘पढ़ाई के बिना ज़िन्दगी में मज़ा नहीं आता।’


29 सितम्बर को मैं सत्रह साल की हो गयी। मेरा ये बर्थडे अब तक का मेरा सबसे अच्छा बर्थडे था… दोस्तों की शुभकामनायें तो रात 12 बजे से ही आनी शुरु हो गयीं थीं।
सुबह सबसे पहले मम्मी पापा और रवि ने विश किया, उसके बाद मैं कोलेज चली गयी थी। लौट कर कम्प्यूटर खोला तो देखा कि आप सब लोगों ने कितना सारा प्यार यहाँ बरसा रखा है (भीग गयी थी मैं तो!)… मुझे बहुत अच्छा लगा! Thank you sooooo much ! शाम को मम्मी पापा रवि और मैं “स्वाद री ढाणी” गये थे… खूब मज़े उड़ाए…


हालांकि कुछ फ़्रेन्ड्स ऐसे भी थे जिन्होंने अगली रात की 12 बजने से कुछ सेकन्ड पहले तक इन्तज़ार करवा के मेरे धैर्य की परीक्षा ली, सबसे ‘लेटेस्ट’ विश करना चाहते थे मुझे! (मैं सच में दुखी हो गयी थी), पर मज़ा बहुत आया… सबने याद रखा और सबने विश किया। और बिलेटेड विशेस के तो क्या कहने !

पर अब मस्ती बहुत हो चुकी… अब कोई सिर्फ़ डिक्शनरी पर बैठकर तो स्पेलिन्ग्स सीख नहीं सकता… मैं पीएचडी करके पढ़ाई खत्म कर लेना चाहती हूँ, इसके बाद 19 साल की होने के बाद NET का एक्ज़ाम और 21 साल की होने के बाद IAS देना है।
लोग कहते है… ‘तुम्हारे पास तो अभी बहुत वक़्त है… ’
‘अजी, तो क्या बर्बाद करने के लिये है ?’

बस इसीलिये कुछ न कुछ करती रह्ती हूँ…

और हाँ, बापू का बर्थ डे मुबारक हो!
:)

एडिट : अरे हाँ, क्या आपने ये देखा ? http://www.udanti.com/2009/09/blog-post_9782


48 comments:

  1. कविता अच्छी लगी.. अख़बार में ऐसे ही खबरें होती है आप ने उन खबरों पर इतनी सुंदर भाव प्रकट किया
    मुझे बहुत अच्छी लगी आपकी रचना..
    धन्यवाद!!!

    ReplyDelete
  2. पन्‍ने फाड़ दिए जाते यदि दुख
    यंत्रणा और विषाद के
    तो कैसे आनंद लेते आनंद का
    सुख का, अच्‍छे का
    कैसे कर पाते तुलना
    अच्‍छे और बुरे में
    सिर्फ अच्‍छा ही अच्‍छा होता रहे
    चाहता है मन यही
    पर सच यह भी है कि
    बहुतों का सुख
    दूसरों के दुख में निहित होता है
    उनका क्‍या होता मेरी नन्‍हीं बिटिया ?

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्‍छा, सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति लगे रहो ।

    ReplyDelete
  4. स्केच ,कविता और लेख सब बहुत अच्छे लगे। कविता तुम्हारी स्ंवेदनशीलता की कहानी कहती है और लेख खिलंदड़े स्वभाव की। जन्मदिन की एक बार फ़िर से बधाई। डांस और स्पीच रिकार्ड की हो तो पोस्ट करना। अलार्म मत बजने दिया करो बार-बार। समय के साथ तुम्हारी सारी तमन्नायें पूरी हों।

    ReplyDelete
  5. तुम्हारा इंटरव्यू पढ़कर बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  6. हम तो खुशी से फूले नहीं समा रहे आपके बारे में पढ़कर, ऐसे ऐसे तेज लोग हैं हमारे आस-पास ? विश्वास नहीं हो रहा !

    ReplyDelete
  7. Great Poem ..!
    I was surprised to see the way you are frowing with your writing skills..!
    Keep it up .. You know i am feeling proud to have a friend like u ..!

    ReplyDelete
  8. काश जला सकती फ़ाड़ के, इस भयानक पन्ने को
    अपने देश की किस्मत की किताब से
    मिटा देती खौफ़,
    बेबस बुजुर्गों, सहमे बच्चों
    और डरी हुई औरतों के नसीब से
    नहीं लग रहा है मन उसका
    पढ़ लिया है कुछ बुरा उसने,
    अखबार में जब से…


    अच्छी भावाभिव्यक्ति
    व्यथा समझी जा सकती है।

    स्केच भी सराहनीय हैं।

    कुछ ना कुछ करते रहना चाहिए किन्तु एलार्म बजते रहना ठीक नहीं है। :-)

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढिया.

    तुम्हारा M Sc के बारे में लिखना और उम्र १७ वर्ष लिखना मेरे गणित को गडबडा गया. मगर बाद में पता चला.

    ईश्वर से प्रार्थना है, कि तुम बहुत दूर जाओ,तुम्हारे सपने सच हों.

    ReplyDelete
  10. JANAM DIL KI MUBAARAK .....ACHEE RACHNA HAI ... AISE HI LIKHTE PADHTE RAHO ..

    ReplyDelete
  11. २९ तारीख पर जन्मदिन की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  12. अजमेर में एम्.एस.सी के दिन याद आ गए.बहुत सुंदर कविता और आलेख .बधाई

    ReplyDelete
  13. bahut khoob Rashmi..achcha blog hai aur kavita bhi--tumhari banayi tasveeren bhi..sab kuchh achchha lgaa..

    kaun si kaksha mein padhti ho?

    blog par sabhi tasveeren bahut sundar hain..
    tumhen to bahut sare inaam bhi mile hain--waah!
    aise hi aage badhtee raho...
    shubhkamanyen hain..
    [janamdin ki [der se sahi] dher sari shbhkamanyen ]

    ReplyDelete
  14. bahut khub ...behad bhavnatmak kavita ...dil me utar gayi ...

    aapka swagat rahega hamare blog per

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. सुंदर व्यंजनाएं।
    दीपपर्व की अशेष शुभकामनाएँ।
    आप ब्लॉग जगत में महादेवी सा यश पाएं।

    -------------------------
    आइए हम पर्यावरण और ब्लॉगिंग को भी सुरक्षित बनाएं।

    ReplyDelete
  16. सुख, समृद्धि और शान्ति का आगमन हो
    जीवन प्रकाश से आलोकित हो !

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए
    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★


    *************************************
    प्रत्येक सोमवार सुबह 9.00 बजे शामिल
    होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *************************************
    क्रियेटिव मंच

    ReplyDelete
  17. नन्हीं लेखिका रश्मि,
    युद्ध पर आपकी कविता काफी सम्वेदनशील है और सम्वेदना ही एक कवि की पूँजी होती है. स्वास्थ्य अच्छ रहे, ऐसी कामना है . वैसे बहुत सारी सावधानियों के साथ लापरवाही का भी अपना स्वाद होता है.

    ReplyDelete
  18. samchar patro me to har khbar chapti hai chh he wo acchi ho ya buri,

    jesa ki aapne kaha ki ankhen band kar lene se kuch nhi badal shkta , dekha jaye to wo bat 16 aane sach hai. lekin kiya hum sab mil kar in ssabko badl nhi shkate?

    iska jawab yaha dena thik nhi kabhi on line aaogi tab dunga. fir jah aapko uchit lage usko waha post kar dena, yaha jaha aap kahe waha hum kuhd post kar denge

    ReplyDelete
  19. apki kavita bauht hi acchi lagi

    dhero suhbkmnyae

    ReplyDelete
  20. hume pata hi nhi tha ki aapka birthday 29 sep ko aata hai warna tabhi wish kar dete. koi baat nhi hume aaj pata chla hai to hum aaj hi aapko birthday wish karte hai.


    happy birthday to u dear


    bahut taraki karo or apne maa papa ke sath ish desh ka bhi kuhb man badhao.


    ones again happy birthday to u

    ReplyDelete
  21. bilated happy birthday young poet,very good effort,tallented-congratulation.may god's grace be with youin your life.

    ReplyDelete
  22. bahut badiya lga aapka ye post,
    bdhaai ho aapko inti sundar rachna ke liye...

    ReplyDelete
  23. यूँ सहम-सहम कर ही हमने जीने की आदत डाली है....

    सत्ता के आगे हो बेबस लुटने की आदत डाली है.....!

    नर हो पशु की भाँती जीवन जीकर भी क्या पाया हमने,

    घुट कर मरने को ही प्रभु ने, क्या,यह जान बदन में डाली है.........?



    है असमंजस में युवा-शक्ति फिर तो यह क्या कर पाएगी,

    क्या भ्रष्ट समष्टि से उठकर चेतन व्यष्टि रच पाएगी.......!

    यदि नही अभी भी चेतनता युव-युग दृष्टि रच पाती है,

    हो तेजहीन ,आसन्न अंत से यह कैसे बच पाएगी....?

    ReplyDelete
  24. http://ts.samwaad.com/2009/12/56.html
    is link par tumhaare VIJETA hone ki soochana hai.

    ReplyDelete
  25. ईश्वर आप को तरक्की दे

    ReplyDelete
  26. सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति...

    ReplyDelete
  27. इस सुन्दर रचना के लिए बहुत -बहुत आभार
    नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  28. अभी से ऐसी सोच और विचार उज्जवल भविष्य की और इशारा करते हैं, दुआ और शुभकामनाएं "नन्ही लेखिका"

    ReplyDelete
  29. Hey rashmi .... Really I'm feeling very proud .....Congrates you for your success..... Itni kam umra aur bade kamaal.....aapke liye to bas dua hi nikal sakti hai dil se " God bless you"

    ReplyDelete
  30. bahut achha laga aap ka blog aaj hi padha ab humesha padhte rahenge

    ReplyDelete
  31. आज अचानक तुम्हारी याद आई तो तुम्हारा ब्लॉग देखने आ गई देखा एक पोस्ट जो मैने नही पढ़ी और उसे भी लिखे जमाने हो गये....!!!

    अब तो तुम्हारी पीएच०डी शुरु हो गई होगी...!!

    शुभाशीष तुम्हे....!

    ReplyDelete
  32. bahut prabhavi blog hai tumhara ..aur tumhari jindadili hum sabke liye misaal hai...aur sketches bhi bahut acche..gud luck to you.. :)

    ReplyDelete
  33. बेहद खूबसूरत ब्लॉग बनया हैं स्केच भी गज़ब के हैं ....... नन्ही लेखिका अब बड़ी हो गयी हैं क्या?

    ReplyDelete
  34. kya baat h madam ji, bhut acha laga pad k or last me jo aap ka likha vo mujhe bhut pasand aaya, aapne khud ki baato ko ache se explain kiya h.good keep it up.

    ReplyDelete
  35. or ha sketche bhut ache bnati ho.

    ReplyDelete
  36. रश्मि,
    आज पहली बार आया इस ब्लॉग पर... आपका प्रोफाइल पढ़ा पहले तो जाना कि आपकी कामयाबियां कमाल कि हैं और उसपर यह रचनाशीलता... बधाईयाँ... ब्लॉग की सजावट आकर्षक और असाधारण है...

    बहुत अच्छा लिखती हो और विचारों की धार पैनी है...

    ReplyDelete
  37. आप तो बहुत अच्छा लिखती हैं...

    _________________
    'पाखी की दुनिया' में 'सपने में आई परी' !!

    ReplyDelete
  38. बहुत सुंदर भाव

    badhai aap ko is ke liye

    ReplyDelete
  39. आपकी रचनाधर्मिता से ब्लॉग जगत प्रभावित है. आपकी रचनाएँ भिन्न-भिन्न विधाओं में नित नए आयाम दिखाती हैं. 'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग एक ऐसा मंच है, जहाँ हम प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटती रचनाएँ प्रस्तुत कर रहे हैं. रचनाएँ किसी भी विधा और शैली में हो सकती हैं. आप भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए 2 मौलिक रचनाएँ, जीवन वृत्त, फोटोग्राफ भेज सकते हैं. रचनाएँ व जीवन वृत्त यूनिकोड फॉण्ट में ही हों. रचनाएँ भेजने के लिए मेल- hindi.literature@yahoo.com

    सादर,
    अभिलाषा
    http://saptrangiprem.blogspot.com/

    ReplyDelete
  40. नन्ही लेखिका....

    आज पहली बार इस ब्लॉग पर आई हूँ....तुम्हारा लेखन अच्छा लगा...संवेदनाओं से भरा...यूँ ही लिखती रहो...तुम्हारे प्रोफाइल ने भी प्रभावित किया....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  41. लेखनी उम्र की मोहताज़ नहीं होती रश्मि..

    ReplyDelete
  42. बेहतरीन लिखा आपने..बधाई.
    _________________________
    अब ''बाल-दुनिया'' पर भी बच्चों की बातें, बच्चों के बनाये चित्र और रचनाएँ, उनके ब्लॉगों की बातें , बाल-मन को सहेजती बड़ों की रचनाएँ और भी बहुत कुछ....आपकी भी रचनाओं का स्वागत है.

    ReplyDelete
  43. रश्मि!
    बहुत सुखद रहा अचानक तुम्हारा लिंक देखना मनीष के ब्लॉग पर और फिर यहाँ आना। तुम्हारे लेखन की तारीफ़ या कमी निकालना तो बाद में होगा - अभी तो मेरी बधाई ले लो - अपने स्केच के लिए भी और अपनी उपलब्धियों के लिए भी।
    तुम्हारी प्रोफ़ाइल पढ़ी - तुम्हारे भाई के बारे में जानकर कसक सी उठी। अगर आशीष और दुआओं से कोई फ़ायदा हो सकता हो - तो यक़ीनन होगा उसे -क्योंकि मैं पूरे दिल से उसे स्वास्थ्य-लाभ की दुआ देता हूँ।
    बाक़ी जो ऊपरवाले के हाथ में है वो रहे - हम लोगों के हाथ में यह तो है ही कि उसको हम कितनी सहिष्णुता से, सहनशीलता और धैर्य से लेते हैं और अपने दायित्व कितने अच्छे से निभाते हैं उनके प्रति जो किसी कारण से पूरी तरह सक्षम नहीं हैं।
    तुम्हें आगे भी बड़ी-बड़ी उपलब्धियों के लिए आशीष, और यह दुआ कि हर बड़प्पन की ओर बढ़ते क़दम के साथ ईश्वर तुम्हें बड़े होने की सारी तौफ़ीक अता करे, दिल से रहमदिल और दूसरों के लिए उदाहरणीय व्यक्तित्व का मालिक बनाए।
    अस्तु,

    ReplyDelete
  44. रश्मि
    बहुत सुन्दर चित्र बनाए हैं और लिखती भी बहुत अच्छा हो ..............दुआ है तुम बहुत आगे तक जाओ..........

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...