Pages

Tuesday, September 28, 2010

"Days are long, Years are short..."

आजकल मेरे दिन कुछ ऐसे ही गुज़र रहे हैं। आधा दिन कॉलेज में लेक्चर्स अटेण्ड करते, मस्ती मारते और आधा दिन कभी कॉलेज के प्रोजेक्ट्स बनाते तो कभी टीवी, मोबाइल, कम्प्यूटर, किताबों से दिल बहलाते, छत पर टहलते गुज़र जाता है।

 तारीखें महज़ अकों की तरह बदलती जाती हैं और एक दिन तारीख पर तारीख के नज़रिये से नज़र जाती है तो लगता है कि 'अरे, कितना सारा समय गुज़र गया!' हालाकिं ऐसा कभी नहीं महसूस होता कि इतने समय में मैनें कुछ नहीं किया बल्कि लगता है कि इतना सारा कुछ हो भी गया और कुछ पता भी नहीं चला!

शुक्रिया सर बी. एस. पाबला जी का जिन्होने कल मुझे याद दिलाया कि अपने ब्लॉग पर आखिरी पोस्ट डाले मुझे एक साल होने को आया है। 

इस एक साल में सचमुच बहुत कुछ हो  गया। मेरा MBA का पहला साल हो गया और जुलाई में मैंने Phd Entrance Test (Zoology) दिया जिसमें सलेक्शन भी हो गया।

MBA  करने का निर्णय एक बढ़िया  निर्णय साबित हुआ। मैंने अनुभव किया कि एक रेस में शामिल होना कैसा लगता है। कॉरपरेट जगत कुछ ऐसा ही है। मैंने  इस दौरान काफ़ी कुछ नया सीखा जो बहुत जरुरी था। क्योंकि ये फ़ैसला करने के लिये कि आप किसी चीज़ को पसन्द करते हैं या नहीं, उसे समझना बेहद ज़रुरी हो जाता है। और इस तरह मैंनें पाया कि बिज़नस इतनी भी बुरी चीज़ नहीं है परन्तु साइंस अब भी सबसे बेहतरीन स्ट्रीम है… :)  फ़िर मैनेज्मेन्ट की जरुरत तो हर जगह पड़ती है और पर्सनैलिटी डेवलपमेन्ट का भी बढ़िया तरीका है MBA । मैंनें प्रज़ेन्टेशन्स देना सीखा (मैं अपनी क्लास में सबसे अच्छी प्रज़ेन्टेशन देती हूँ ) और सबसे अच्छी बात, मैं इस सेमेस्टर "लीडरशिप" भी पढ़ने वाली हूँ जो मैं हमेशा से पढ़ना चाहती थी।

मैं अब जल्दी से तीसरा और चौथा सेमेस्टर पूरा कर लेना चाहती हूँ ताकि जल्दी से पीएचडी शुरु कर सकूँ और खूबसूरत सी ज़ूलॉजी की दुनिया में लौट जाँऊ। हालाँकि अब मैं MBA की दुनिया को भी बहुत मिस करुँगी और MBA वाले दोस्तों को और अपने टीचर्स को भी… :) 

खैर, अब थोड़ी ही देर बाद मेरा बर्थडे आने वाला है… Really years are short... फ़िर से बर्थडे आ गया… कितना कुछ करना है अभी तो !! अब अट्ठारह की होने वाली हूँ, हॉरिबल एक्सपीरिएन्स, क्योंकि अब मुझसे उम्मीदें बढ़ गयीं हैं… अनुभव जुड़ते जा रहे हैं और मुझे बढ़ते जाना है… :)

Miss you blogging...

16 comments:

  1. चलो देर आये दुरुस्त आये. हमने भी एक बार तुम्हें कुछ भी न लिखने के बारे में कहा था पर तुम्हारी पढाई ज्यादा जरूरी है. अब अच्छा रहा.
    जन्मदिन की शुभकामना पांच मिनट पहले. कल तो ऑरकुट पर मिलेंगे ही
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  2. नन्हीं लेखिका १८ की हो गयी? भारत सरकार के हिसाब से आप वोटिंग अब कर सकती हो... सही प्रत्याशी का चुनाव वोटिंग के माध्यम से.. :P आप खुद इतनी समझदार हो... मैं क्या समझाऊँ... :P

    दिन कैसे गुजर जाते हैं ये पता भी नही चलता और फिर एक नया साल मुँह फैलाये सामने खड़ा होता है..

    आपके लिए भी ये साल ऐसा ही रहे... बहुत कुछ सीखने को मिलेगा ही...

    जन्मदिन की शुभकामनाएं!!

    ReplyDelete
  3. प्रिय रश्मि स्वरूप

    ~*~ जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं ! ~*~
    आपका ब्लॉग बहुत अच्छा है …
    आप द्वारा बनाए गए स्केच ,
    आपके दादा-दादी , नाना-नानी , पापा-मम्मी ,
    और छोटे भाई प्रतीक के साथ
    स्वयं तुम्हारे बचपन की तस्वीरें …
    सब कुछ बहुत बढ़िया !
    तुम्हारी उपलब्धियों पर राजस्थान को गर्व है !
    बधाई !

    अच्छा रश्मि , राजस्थानी भी जानती हो ?

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  4. जन्म दिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  5. जन्मदिन की
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    बहुत बहुत
    ,.............शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. सहज लेखन। पढ़कर अच्छा लगा।
    जन्म दिन की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  7. happy birth day.... rashmi didi....i liked your blog very much

    ReplyDelete
  8. जन्मदिन की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. arre kya bolun main...
    suraj ko diya dikhane ke barabar....
    aap mujhse umra mein chhoti lekin ohde mein kitni badi ho....
    bhagwaan aapko duniya ki saari khushiyaan de..
    janmdin ki dher saari badhai...
    mujhe to laga apna blog bhul hi gayi aap....
    yun hi kabhi kabhi likhte rahein...mahine mein ek baar 15 min ka samay to nikal hi sakti hain...
    hum bhi kuch kuch seekh jayenge...

    ReplyDelete
  10. जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. अरे वाह!
    आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!!
    --
    इसकी चर्चा तो बाल चर्चा मंच पर भी है!
    http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/20.html

    ReplyDelete
  12. रश्मि प्रज़ेन्टेशन्स देना एक कला हे जो हर कोई नहीं कर सकता हे जिसमे क़ाबलियत होती हे वोही यह कर पाता है
    प्रज़ेन्टेशन्स पुरे प्रोजेक्ट की जान होता हे अगर आप का प्रज़ेन्टेशन्स अच्छा हे तो आप को कोई सफल होने से नहीं रोक सकता हे

    उम्मीदे उन से की जाती हे जो उम्मीदे पूरी करते हे
    आप अपमे मिशन में कामयाब हो और हमारी से डेर सारी शुभ कामनाये

    ReplyDelete
  13. इतिहास यहाँ आपका इन्तजार कर रहा है
    वो कहते नहीं तो क्या हुआ......

    ReplyDelete
  14. Rashmi

    i m waiting..u.
    new post
    .................अपना घर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2010/10/blog-post_10.html

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...